आर्थिक कार्य विभाग DEPARTMENT OF Economic Affairsnational emblem

Menu

You are here

होम >> प्रभाग >> मध्य कार्यालय (ऋण प्रबंधन)

मध्य कार्यालय (ऋण प्रबंधन)

मिडिल आफिस (ऋण प्रबंधन) संयुक्तर सचिव, बजट को रिपोर्ट करता है।

वर्ष 2007-08 के केंद्रीय बजट में कहा गया है कि "दुनिया भर में, ऋण प्रबंधन मौद्रिक प्रबंधन से अलग है। सरकार में एक ऋण प्रबंधन कार्यालय की स्थापना के लिए कुछ समय से वकालत की जाती रही है। अब तक हासिल राजकोषीय समेकन ने हमें पहला कदम उठाने कै लिए प्रोत्साहित किया है। तदनुसार, मैं एक स्वायत्त ऋण प्रबंधन कार्यालय (डीएमओ) स्थापित करने के लिए प्रस्ताव करता हूँ, और पहले चरण के तौर पर,एक पूर्ण डीएमओ को संक्रमण की सुविधा के लिए एक मिडिल ऑफिस स्थापित किया जाएगा।

इस घोषणा के बाद, वित्त मंत्रालय में सितंबर 2008 में मिडिल ऑफिस स्थापित किया गया था। जब ऋण प्रबंधन कार्यालय स्थापित किया जाएगा, तब मिडिल ऑफिस को इसमें विलय किया जाएगा। मिडिल ऑफिस की जिम्मेदारियों को नीचे वर्णित किया गया है :

  • एक स्वतंत्र ऋण कार्यालय के लिए उपयुक्त कानूनी और शासन ढांचे के विकास का संवर्धन करना
  • संपोषणीयता संबंधी आवश्यकताओं के अनुरूप दीर्घ अवधि की ऋण प्रबंधन रणनीति की रचना
  • वार्षिक ऋण जारी करने की रणनीति और उधार लेने के आवधिक कैलेंडर का निरूपण
  • नकद और उधार संबंधी आवश्यकताओं का पूर्वानुमान
  • एक व्यापक जोखिम प्रबंधन ढांचे का निरूपण
  • ऋण/नकदी प्रबंधन नीति, रणनीति और जोखिम दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करना
  • विकासशील और सरकार की देनदारियों पर एक केंद्रीकृत डेटाबेस का विकास करना एवं अनुरक्षण करना
  • जनता के बीच ऋण से संबंधित सूचना का प्रसार करना।
  • वर्तमान में, ऋण प्रबंधन कार्यों को वित्त मंत्रालय और रिजर्व बैंक सहित विभिन्न एजेंसियों द्वारा किया जाता है. ये कार्य मौजूदा व्यवस्था से सुचारु संक्रमण करने के लिए चरणबद्ध तरीके से मिडिल ऑफिस द्वारा किया जाएगा.
Footer Menu